Home>>Breaking News>>भारत ने रूस के साथ सबसे अडवांस्ड AK-203 के 70000 राइफलों की खरीद के लिए किया समझौता, नवंबर तक आने शुरू हो जाएँगी खेप
Breaking Newsताज़ाराष्ट्रिय

भारत ने रूस के साथ सबसे अडवांस्ड AK-203 के 70000 राइफलों की खरीद के लिए किया समझौता, नवंबर तक आने शुरू हो जाएँगी खेप

भारत ने 70000 लेटेस्ट AK असॉल्ट राइफलों की खरीद के लिए गुरुवार को रूस के साथ एक समझौते पर दस्तखत किया. ‘द प्रिंट’ ने अपनी रिपोर्ट में रक्षा सूत्रों के हवाले से बताया है कि ये AK राइफल इस साल नवंबर से देश में आने शुरू हो सकते हैं. इसके अलावा दोनों देश भारत में ही 6 लाख AK-203 राइफलों के संयुक्त रूप से निर्माण के एक बड़े प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं जो 2018 से ही पेंडिंग है.

‘द प्रिंट’ की रिपोर्ट के मुताबिक, शुरुआत में 7.62×39mm के AK-203 राइफलों को सीधे आयात करने की योजना थी और आगे 6.5 लाख राइफलों को संयुक्त रूप से भारत में बनाई जानी थी. लेकिन जॉइंट प्रोडक्शन में संभावित देरी के मद्देनजर 70 हजार राइफलों को इंपोर्ट करने का फैसला लिया गया है.

रक्षा मंत्रालय और रूस के प्रतिनिधियों ने इंडो-रसिया राइफल्स लिमिटेड के अधिकारियों की मौजूदगी में इस करार पर दस्तखत किए. इंडो-रसिया राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड ही AK राइफलों की भारत में संयुक्त रूप से निर्माण करने वाली है.

INSAS राइफलों को रीप्लेस करने का है प्लान ?

दरअसल, AK-47 का यह सबसे अडवांस्ड वर्जन इंडियन स्मॉल आर्म्स सिस्टम (INSAS) असॉल्ट राइफल को रीप्लेस करेगा. INSAS का इस्तेमाल 1996 से चला आ रहा है और उसमें हिमालय की ऊंचाई पर जैमिंग और मैगजीन के क्रैक जैसी समस्याएं पैदा होने लगी हैं.

दुनिया की सबसे अडवांस्ड और घातक राइफलों में से एक है AK-203

रूस निर्मित AK-203 राइफल दुनिया की सबसे आधुनिक और घातक राइफलों में से एक है. AK-203 बेहद हल्‍की और छोटी है जिससे इसे ले जाना आसान है. इसमें 7.62 एमएम की गोलियों का इस्‍तेमाल किया जाता है. यह राइफल एक मिनट में 600 गोलियां या एक सेकंड में 10 गोलियां दाग सकती है. इसे ऑटोमेटिक और सेमी ऑटोमेटिक दोनों ही मोड पर इस्‍तेमाल किया जा सकता है. इसकी मारक क्षमता 400 मीटर है. सुरक्षाबलों को दी जाने वाली इस राइफल को पूरी तरह से लोड किए जाने के बाद कुल वजन 4 किलोग्राम के आसपास होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *