Home>>Breaking News>>काबुल में हमले का जिम्मेवार ISKP, क्या भारत को बनाएगा अगला निशाना ?
Breaking Newsताज़ादुनिया

काबुल में हमले का जिम्मेवार ISKP, क्या भारत को बनाएगा अगला निशाना ?

कल अफगानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट के पास हुए आत्मघाती हमलों में 90 लोगों की मौत हो गई, जबकि सैकड़ों लोगों के घायल होने की खबर है. इस हमले में अमेरिका के 13 कमांडो भी मारे गए. खूंखार आतंकी संगठन ISKP यानी इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रोविंस (ISKP) ने इन हमलों की जि‍म्‍मेदारी ली है.

अगर देखा जाए तो काबुल एयरपोर्ट पर हुए हमलों की खबर भारत के लिए टेंशन देने वाली खबर है क्योंकि अफगानिस्तान के अलावा जम्मू-कश्मीर में भी ISKP की पैठ है.  यहां भी बीते साल खुरासान मॉड्यूल से जुड़े कुछ संदिग्ध अरेस्‍ट किये गए थे. संभव है की काबुल में इस संगठन के आतंकी हमले में सफलता से उत्साहित होकर, भारत में इस संगठन से जुड़े लोग भी सक्रीय हो जाएँ. हालाँकि भारतीय सुरक्षा एजेंसियां गंभीरता से हर हरकत पर नजर बनाए हुए हैं.

क्‍या है आईएस का खुरासान मॉड्यूल ?

आईएसकेपी आतंकी संगठन आईएसआईएस की एक शाखा है जिसे आईएसकेपी यानी इस्लामिक स्टेट ऑफ खुरासान प्रॉविन्स (ISKP) के नाम से जाना जाता है. इस मॉड्यूल का बेस पाकिस्तान-अफगान सीमा के अलावा उत्तर-पूर्वी ईरान, दक्षिणी तुर्कमेनिस्तान और उत्तरी अफगानिस्तान में स्थित है.

पहली बार 2014 के आखिर में पूर्वी अफगानिस्तान में यह सामने आया और अत्यधिक क्रूरता दिखाई थी. दरअसल, खुरासान अफगानिस्तान का ऐतिहासिक एरिया है, जिसमें अफगानिस्तान और ईरान के हिस्से शामिल थे. आईएस खुरासान में तालिबान छोड़ने वाले और विदेशी लड़ाके, दोनों शामिल हैं. इस संगठन को बेहद क्रूर माना जाता है.

भारत में भी है ISKP की पैठ ?

आईएसकेपी आतंकी संगठन की अफगानिस्तान के अलावा जम्मू-कश्मीर में भी पैठ है. बीते साल यूपी में लखनऊ, कानपुर समेत कुछ शहरों और केरल से इस आतंकी संगठन से जुड़े संदिग्ध गिरफ्तार किए गए थे.

भारत के लिए कितना बड़ा खतरा है ISKP ?

मध्य प्रदेश में ट्रेन ब्‍लास्‍ट की कोशिश और यूपी की राजधानी लखनऊ में हुए एक एनकाउंटर के बाद आतंकी संगठन आईएसआईएस के खुरासान मॉड्यूल का नाम अचानक चर्चा में आया था. इस आतंकी संगठन की जम्‍मू-कश्‍मीर में गहरी पैठ बताई जाती है. यह आतंकी संगठन लगातार भारत में गजवा-ए-हिंद के एजेंडे के तहत युवाओं को आतंकी बनाने की कोशिश में लगा है. सोशल मिडिया पर भी यह संगठन काफी सक्रीय बताया जाता है और इसी के माध्यम से यह संगठन युवाओं को बरगलाने का काम करता रहता है.

भारत और अमेरिका ने ISKP को घोषित किया है आतंकी समूह

खूंखार आतंकी संगठन ISKP को भारत के अलावा अमेरिका और इराक ने आतंकी समूह घोषित किया है. यह संगठन गजवा-ए-हिंद के एजेंडे के तहत भारत पर भी कब्जा करने का ख्‍वाब देखता है. अगर देखा जाए तो इस आतंकी संगठन में बीते कई वर्ष में लगातार इंटरनेट के जरिए भारत में युवाओं को आतंकी बनाने की कोशिशें जारी हैं. भारत में इस संगठन से जुड़े कई युवाओं को पहले भी हिरासत में लिया गया है. संभावना है कि कई युवा इस संगठन के लिए भारत में स्लीपर-सेल का काम करते हैं.

कहां है इस आतंकी संगठन का मुख्‍य स्‍थान ?

इस आतंकी समूह ने हाल के वर्षों में पूर्वी अफगानिस्तान में विशेष रूप से नंगहर और कुनार प्रांतों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है. ISKP ने काबुल में स्‍लीपर सेल का गठन किया है, जिन्होंने 2016 के बाद से अफगान राजधानी में और उसके बाहर कई विनाशकारी आत्मघाती हमले किए हैं.

ISKP शुरू में पाकिस्तान के साथ सीमा पर बहुत कम क्षेत्रों तक सीमित था, लेकिन अब इसने अपने को बड़े स्‍तर पर स्थापित किया है. ISKP में अफगानों के अलावा अन्य आतंकवादी समूहों और उज़्बेक चरमपंथियों के साथ पाकिस्तानी भी शामिल हैं. ऐसे में यह वेस्ट पॉइंट पर आतंकवाद का मुकाबला केंद्र बन गया है.


क्या तालिबान से जुड़ा है ये संगठन ?

आईएसआईएस और तालिबान दोनों कट्टर सुन्नी इस्लामी आतंकवादी हैं. ये दोनों एक-दूसरे के प्रतिद्वंद्धी हैं और हमेशा एक-दूसरे का विरोध करते रहे हैं. ISKP के तालिबान के साथ बड़े मतभेद हैं और उन पर दोहा, कतर में ‘पॉश होटलों’ में स्थापित शांति समझौते के पक्ष में जिहाद और युद्ध के मैदान को छोड़ने का आरोप लगाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *