Home>>Breaking News>>जैसा कहा, वैसा किया …. मात्र 48 घंटे में अमेरिका ने ISKP से लिया अपने 13 सैनिकों के मौत का बदला
Breaking Newsताज़ादुनिया

जैसा कहा, वैसा किया …. मात्र 48 घंटे में अमेरिका ने ISKP से लिया अपने 13 सैनिकों के मौत का बदला

काबुल एअरपोर्ट पर हुए धमाके में अमेरिकी सेना के 13 कमांडो मारे जाने से अमेरिका विचलित हो चूका था. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाईडेन ने घटना के बाद एक सशक्त बयान जारी कर अपना इरादा जाहिर कर दिया था. बाईडेन ने कहा था-“हम अपने चुने हुए समय पर, अपनी पसंद के स्थान पर ताकत और सटीकता के साथ जवाब देंगे. ये आईएसआईएस आतंकवादी नहीं जीतेंगे. हम अमेरिकियों को बचाएंगे, हम अपने अफगान सहयोगियों को बाहर निकालेंगे और हमारा अभियान जारी रहेगा. अमेरिका भयभीत नहीं होगा”

काबुल एयरपोर्ट पर अमेरिकी सैनिकों के ऊपर हुए हमले के बाद जो बाइडन तुरंत सिचुएशन रूम से हर घटनाक्रम पर नजर रखे हुए हैं. उनके साथ अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन और विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन भी मौजूद हैं. प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, जब विस्फोट की सूचना मिली तो बाइडन अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के साथ अपनी दैनिक अफगानिस्तान ब्रीफिंग के लिए सिचुएशन रूम में थे.

बाइडन प्रशासन से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रपति और उनके शीर्ष सहयोगी घटना के दो घंटे बाद भी सिचुएशन रूम में ही बने हुए हैं. यहां उनको अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट के जमीनी हालात की जानकारी दी जा रही है. जैसे-जैसे हमें इनपुट मिल रहे हैं राष्ट्रपति बाइडन को उसके बारे में बताया जा रहा है.

जो बाईडेन ने काबुल में ISKP के आतंकी घटना के बाद जो दावा किया था, ISKP को जो चेतावनी दी थी, उस दावे और चेतावनी को उन्होंने मात्र 48 घंटे में ही पूरा कर दिखाया. अमेरिकी सेना ने ISKP के ठिकाने को निशाना बनाते हुए अफगानिस्तान में एयर स्ट्राइक की है. ड्रोन से की गई बमबारी में कई आतंकियों के मारे जाने की सूचना है. जानकारी यह भी मिली है कि इस हमलें में काबुल धमाके का कथित साजिशकर्ता मारा गया है. राहत की बात ये रही कि इस हमलें में किसी अन्य नागरिक के मारे जाने की खबर नहीं है. उम्मीद है की जल्द ही अमेरिकी सेना द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के, इस हमले की पूरी जानकारी साझा की जायेगी.

अमेरिका ने काबुल हमले के बाद अपने सैनिकों की मौत का बदला लेने के लिए जिस तरह की त्वरित कार्यवाही की गयी है, ठीक ऐसी ही कार्यवाही अन्य देशों को भी किया जाना चाहिए, तभी आतंकवाद का खात्मा हो सकेगा. इस तरह के सर्जिकल स्ट्राइक किये जाने से आतंकियों के हौसले भी कमजोर होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *