Home>>Breaking News>>क्या तालिबान के प्रधानमन्त्री बनने के फिराक में हैं पाक-क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ?
Breaking Newsताज़ादुनिया

क्या तालिबान के प्रधानमन्त्री बनने के फिराक में हैं पाक-क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ?

क्या तालिबान के प्रधानमन्त्री बनने के फिराक में हैं पाक-क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ? ये सवाल इसलिए क्योंकि पाकिस्तान के क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने तालिबान के समर्थन में जो विडियो ट्वीट किया है, उसके जवाब में सोशल मिडिया पर यही सवाल उठने लगे हैं. सच कहा जाए तो शाहिद अफरीदी अपने इस ट्वीट के कारण, बुरी तरह से ट्रोल होने लगे हैं.

शाहिद अफरीदी ने ट्वीट किया-“तालिबान बड़े पॉजिटिव फ्रेम ऑफ माइंड के साथ आए हैं। ये चीजें हमें पहले नजर नहीं आईं… माशाअल्‍लाह… ये चीजें… बड़ी जबर्दस्‍त पॉजिटिविटी की तरफ चीजें नजर आ रही हैं”

अफरीदी ने तालिबान की जिस ‘पॉजिटिव सोच’ का जिक्र किया, कांग्रेस के राज्‍यसभा सांसद अभिषेक मनु सिंघवी ने, अफरीदी के उसी सोच के जरिए पाक क्रिकेटर को जवाब दे डाला.  सिंघवी ने ट्विटर पर लिखाहां, तालिबान वहीं पॉजिटिविटी लेकर आया है जैसी हर बार अफरीदी के बैटिंग करने उतरने पर कप्‍तान को होती थी. वो चमत्‍कार की उम्‍मीद करते थे मगर 10 से 9 बार ब्रेनफेड हो जाता था” सिंघवी का तंज अफरीदी की चुनिंदा आतिशी पारियों पर था. 398 वनडे मैच खेलने वाले अफरीदी ने 6,892 रन जरूर बनाए मगर औसत सिर्फ 23.57 रन का ही रहा.

अफरीदी का यह वीडियो-ट्वीट, सोशल मिडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. कुछ लोग अफरीदी को लताड़ रहे हैं, तो कुछ ने उन्हें उनके पुराने बयान याद दिलाते हुए कहा कि अफरीदी की सोच ही ऐसी है. एक यूजर ने लिखा कि “अफरीदी की चमचागिरी देखकर ऐसा लग रहा है कि जल्द ही तालिबान की क्रिकेट टीम आने वाली है और अफरीदी उस क्रिकेट टीम का कप्तान बनने वाला है. कुछ लोग यह भी कह रहे हैं कि तालिबान के लिए शाहिद अफरीदी का खुला प्‍यार असल में कई एंटी-नैशनल भारतीयों की परछाई है. कुछ ने तो कटाक्ष करते हुए अफरीदी को ‘बेहद प्रगतिशील’ करार दिया है.

पाकिस्तान में इमरान सरकार की कट्टर विरोधी पत्रकार एवं सोशल एक्टिविस्ट नायला इनायत (जो अभी विदेश में रहती हैं) ने यहाँ तक कह दिया कि “तालिबान की चापलूसी करने वाले अफरीदी की चापलूसी को देखकर ऐसा लगता है, जैसे ये तालिबान का प्रधानमन्त्री बनने के फ़िराक में है.”

वैसे नायला ने जो कहा है, वो भले ही कटाक्ष हो लेकिन सच ये भी है कि पाकिस्‍तान में ऐसी चर्चा होती है कि अफरीदी की नजर प्रधानमंत्री की कुर्सी पर है. वे मौजूदा पीएम इमरान खान की तरह ही सेना के चाटुकारों में गिने जाते हैं. कश्‍मीर को लेकर कई बयानों के चलते अफरीदी, पाकिस्‍तान में एक खास तबके की नजर में हीरो बन चुके हैं. वैसे राजनीति में आने से अफरीदी ने इनकार नहीं किया है. वे खेल से इतर राजनीतिक और पाक-सेना के मिलिट्री जलसों में शरीक होते रहे हैं. उनके बयान साफ बताते हैं कि एक न एक दिन राजनीति में उनकी एंट्री जरूर होगी. इन सब बातों के मद्देनजर, अगर नायला इनायत ने तालिबान के समर्थन में दिए गए अफरीदी के बयान पर उन्हें “तालिबान के PM बनने के फ़िराक में हैं” कहा है तो कुछ गलत तो नहीं कहा है. हाँ ये बात और है की अफरीदी के इस चापलूसी-जाल में तालिबान किस हद तक आता है, ये देखने वाली बात होगी क्योंकि तालिबानी खेमे में भी प्रधानमन्त्री बनने की होड़ वाले लोग कम नहीं होंगे. कुछ अभी सामने आयेंगे और कुछ तालिबान सरकार बनने के बाद धीरे-धीरे सामने आयेंगे. अब इस लम्बी कतार में शाहिद अफरीदी कितने नंबर का कूपन पाएंगे, ये तो वही जानें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *