Home>>Breaking News>>कहीं आप भी तो लेकर नहीं घूम रहे “OnePlus Nord” सीरिज का बम ? मोबाइल में धमाके से गूंजा दिल्ली का तीस हजारी कोर्ट
Breaking Newsताज़ादिल्ली/एनसीआर

कहीं आप भी तो लेकर नहीं घूम रहे “OnePlus Nord” सीरिज का बम ? मोबाइल में धमाके से गूंजा दिल्ली का तीस हजारी कोर्ट

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में, एडवोकेट गौरव गुलाटी के चेंबर में रखा OnePlus Nord 2 5G में हुए धमाके से बवाल मच गया. हालांकि फोन के मालिक गुलाटी इस घटना में बाल-बाल बच गए, लेकिन उनके पेट, कान और आँख में चोट आई है.

अगर देखा जाए तो OnePlus Nord सीरीज के फोन्स में लगातार ब्लास्ट की घटनाएं सामने आ रही हैं. अगस्त की शुरुआत में वनप्लस नॉर्ड 2 में आग लगने की खबर आई थी. अब एक बार फिर OnePlus Nord 2 5G बम की तरह फट गया है. वनप्लस नॉर्ड 2 5G की नई घटना दिल्ली में सामने आई है. दिल्ली के रहने वाले एडवोकेट गौरव गुलाटी का नया वनप्लस नॉर्ड 2 5G में ब्लास्ट हुआ लेकिन उनकी जान बाल-बाल बच गई.

 गौरव गुलाटी ने बताया कि उनके नए वनप्लस नॉर्ड 2 5G में उस समय आग लग गई जब वह अपने चैंबर में थे. दिल्ली के तीसहजारी कोर्ट के चैंबर में वनप्लस का यह फोन आग लगने के बाद बम की तरफ फट गया. उन्होंने कहा कि उन्होंने देखा कि उनके कोट से धुंआ निकल रहा है और जब तक कि वह कुछ समझ पाते फोट में ब्लास्ट हो गया. इस ब्लास्ट से गौरव के पेट, कान और आंख में चोट आई है. उनका कहना है कि फोन में आग लगने के बाद निकले धुंए के चलते उन्हें सांस लेने में परेशानी हो रही है. इसके अलावा उनकी आंखों से भी धुंधला दिख रहा है. फिलहाल उनका इलाज चल रहा है और वे दवाइयां ले रहे हैं.

गौरव ने आगे बताया कि उन्होंने वनप्लस के खिलाफ पुलिस शिकायत कराई है और वह कंपनी के खिलाफ लीगल ऐक्शन भी लेंगे. गौरव ने फोन में ब्लास्ट के बाद ट्विटर पर भी पोस्ट किया था. इसके बाद वनप्लस ने उनसे संपर्क भी किया. गौरव ने हमसे बातचीत में कहा कि वनप्लस की तरफ से एक व्यक्ति उनसे मिलने आया था जिसने उनसे इन्वेस्टिगेशन के लिए फोन अपने साथ ले जाने की बात कही. लेकिन गौरव ने पुलिस केस होने के चलते फोन देने से मना कर दिया.

इस पूरी घटना पर वनप्लस के रुख को लेकर गौरव असंतुष्ट दिखे और उन्होंने बताया कि फिलहाल वनप्लस की तरफ से उन्हें किसी तरह की मदद नहीं की गई है. कंपनी चाहती है कि वह उन्हें फोन दे दें और उसके बाद वह जांच करेगी तब ही किसी तरह के हर्जाना देने के बारे में कुछ साफ होगा. लेकिन गौरव का कहना है कि उन्होंने फोन खरीदने के लिए बड़ी रकम खर्च की है. लेकिन अब उन्हें ऐसा लग रहा है कि वह अपनी जेब में अपना डेथ सर्टिफिकेट लेकर चल रहे थे. वो अपने आपको खुशकिस्मत मानते हैं कि उनकी जान बच गई.

गौरव का कहना है कि उन्होंने वनप्लस नॉर्ड 2 5G को करीब 10 दिन पहले ही खरीदा था। और 2-3 दिनों से ही इसे इस्तेमाल करना शुरू किया था. उन्होंने हमें बताया कि फोन ब्लास्ट के समय करीब 90 फीसदी चार्ज था.

बात चाहे “OnePlus Nord” सीरिज की हो या फिर किसी अन्य ब्रांड के फोन की हो, अगर आपने लापरवाही बरती तो समझ लीजिये की आप मोबाइल के धमाके से अपनी जान भी गंवा सकते हैं. मोबाइल भी एक तरह से बम की तरह ही होता है, यही कारण है की कई विशेष सार्वजनिक स्थलों पर मोबाइल के ले जाने पर सख्त पाबन्दी है. मोबाइल भी हम की तरह ही घातक साबित होता है. दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में जो धमाका हुआ, यह पहला धमाका नहीं है बल्कि इससे पहले भी कई ब्रांड के फोन में धमाका हो चूका है. इसलिए अपने मोबाइल फोन से सावधान रहें. अगर फोन अचानक गर्म होने लगे तो सावधानी और भी अधिक जरुरी है. अपने मोबाइल के पुराने बैटरी को समय-समय पर चेक करते रहें, अगर वो सामान्य स्थिति से ज्यादा फूली हुयी या गर्म लगे तो उसका इस्तमाल तुरंत बंद कर दें. मोबाइल को चार्जिंग में लगाकर, कभी भी उसका उपयोग न करें. अगर आवश्यकता न हो तो मोबाइल को अपने और अपने परिवार से दूर ही रखें, विशेषतौर पर जब आप मोबाइल को चार्ज कर रहे हों तो इस सावधानी को जरुर बरतें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *