Home>>Breaking News>>“वन्दे भारत” की तीसरी खेप में आएंगी 200 स्लीपर ट्रेनें, होंगी स्लीपर की सुविधाएं
Breaking Newsटैकनोलजीताज़ायात्राराष्ट्रिय

“वन्दे भारत” की तीसरी खेप में आएंगी 200 स्लीपर ट्रेनें, होंगी स्लीपर की सुविधाएं

सिटिंग चेयर वाली वंदे भारत ट्रेन के बाद अब रेल मंत्रालय स्लीपर सुविधाओं वाली 200 वंदे भारत ट्रेनों की तीसरी खेप खरीदने की तैयारी में है। इसके लिए रेलवे इसी महीने 24,000 करोड़ रुपये का टेंडर जारी कर सकता है। रेलवे रात भर की यात्रा के लिए स्लीपर सुविधाओं वाली 200 वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण के लिए मार्च में 24,000 करोड़ रुपये का एक बड़ा टेंडर जारी करने की तैयारी कर रहा है।

अब तक रेलवे ने 102 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों को केवल चेयर कार वाली ही चलाई है। जबकि रेलवे पहले ही इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में 44 वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण के लिए ठेका दे चुका है। ऐसी 58 और ट्रेनों की खरीद के लिए फिलहाल बोली प्रक्रिया भी जारी है।

मिलेगी आधुनिक सुविधाएं :

भारतीय रेलवे कपूरथला, चेन्नई और रायबरेली में उत्पादन इकाइयों के अलावा 200 वंदे भारत ट्रेन-सेट के निर्माण के लिए नव-निर्मित लातूर सुविधा की भी पेशकश करेगा। संस्करण -3 में वंदे भारत की ट्रेनें हल्की, ऊर्जा-कुशल और अतिरिक्त यात्री सुविधाओं के साथ अधिक आधुनिक सुविधाओं के साथ होंगी। अब तक रेलवे ने 102 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों को केवल बैठने की व्यवस्था के साथ शुरू किया था।

बजट में हुई है 400 ट्रेनों की खरीद की घोषणा :

इससे पहले केंद्रीय बजट 2022-23 में 400 और वंदे भारत ट्रेनों की खरीद की घोषणा की गई थी। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार 3,200 डिब्बों वाली 200 वंदे भारत ट्रेनों के लिए बोली दस्तावेजों को अंतिम रूप दिया जा रहा है और इन्हें मार्च में जारी किया जाएगा। बजट प्रावधान के अनुसार, 16 डिब्बों वाली एक वंदे भारत ट्रेन पर 120 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है।

एल्युमीनियम और स्टील दोनों तरह के डिब्बे :

तीसरे संस्करण की वंदे भारत एक्सप्रेस के लिए बोली लगाने वालों को एल्युमीनियम और स्टील दोनों तरह के डिब्बों के विकल्प दिए जाएंगे। आगामी 200 वंदे भारत सेवा में एसी-1, एसी-2 और एसी-3 तीनों श्रेणियां होंगी। इसमें नई तकनीक के उपयोग के साथ हल्के वजन वाली बोगी, ट्रांसफार्मर और मोटर आदि के लिए विनिर्देश तैयार किए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *