Home>>Breaking News>>कोरोना के चौथी लहर के बिच शुरू हुआ COVID TEETH का प्रकोप
Breaking Newsताज़ादुनियाराष्ट्रिय

कोरोना के चौथी लहर के बिच शुरू हुआ COVID TEETH का प्रकोप

कोरोना वायरस दुनियाभर में एक बार फिर तेजी से पैर पसार रहा है। एशिया और यूरोप के कई देशों में लगातार मामले बढ़ रहे हैं। इसे कोरोना की चौथी लहर के रूप में देखा जा रहा है। वैज्ञानिकों ने आशंका जताई है कि भारत को जल्द चौथी लहर का सामना करना पड़ सकता है। इस बार मामले बढ़ने की वजह ओमीक्रोन के सबवेरिएंट बीए.2 (Omicron BA.2) को माना जा रहा है।

कोरोना महामारी  को दो साल हो गए हैं और यह वायरस हर बार एक नया रूप लेकर तबाही मचा रहा है। जिस तेजी से कोरोना के वेरिएंट बदल रहे हैं, उसी तेजी से इसके लक्षण भी बदल रहे हैं। अब सिर्फ बुखार, खांसी या गले में खराश होना इसके लक्षण नहीं रह गए हैं। बेशक कोरोना मुख्य रूप से सांस की बीमारी है। लेकिन कई लोगों में ऐसे लक्षण भी देखे जा रहे हैं, जो श्वसन प्रणाली से परे मुंह को प्रभावित कर सकते हैं।

जैसे-जैसे समय बीत रहा है कोरोना फेफड़ों के अलावा शरीर के कई हिस्सों पर वार कर रहा है। एक्सपर्ट्स मान रहे हैं कि कोरोना दांत और मसूड़ों को प्रभावित कर रहा है और मरीजों में इससे जुड़े लक्षण पाए गए हैं। एक्सपर्ट इसे कोविड टीथ‘ (COVID Teeth) बता रहे हैं। कोरोना की चौथी लहर से पहले आपको इन लक्षणों को समझने की जरूरत है।

मुंह, दांत और मसूड़ों में दिख रहे कोरोना के लक्षण

एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने डेंटल हेल्थ और कोविड-19 के लक्षण के बीच संबंध पाया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि कोरोना वायरस दांतों के स्वास्थ्य पर प्रभाव डाल सकता है। कोरोना से पीड़ित 75 प्रतिशत लोगों में दांतों की समस्या देखने को मिली।

क्या दांतों की समस्या कोरोना का प्रमुख लक्षण है ?

कोरोना के लक्षणों पर हुए 54 अध्ययनों की एक रिपोर्ट से पता चलता है कि कोरोना के शीर्ष 12 लक्षणों में दांत दर्द या मुंह से संबंधित लक्षण नहीं थे। इसमें बुखार (81.2 प्रतिशत), खांसी (58.5 प्रतिशत) और थकान (38.5 प्रतिशत) सबसे आम लक्षण थे।

इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

कोरोना के कुछ ऐसे लक्षण आपके मुंह या मसूड़ों में तब दिखाई देते हैं, जब वायरस डेंटल हेल्थ को प्रभावित करता है। ऐसा होने से आपको कई लक्षण महसूस हो सकते हैं जिनमें शामिल हैं-

  • मसूड़ों में दर्द
  • बुखार
  • लगातार खांसी
  • अत्यधिक थकान
  • मसूड़ों में खून का थक्का जमना
  • जबड़े या दांत में दर्द (ऐसा लगातार तनाव के कारण होता है)

कोविड टीथ में होने वाले दर्द का उपचार

मसूड़ों या दांतों में दर्द होना किसी के लिए भी परेशानी का सबब बन सकता है, जिस पर उचित ध्यान देने और देखभाल की आवश्यकता होती है। यदि आपको कोरोना के दौरान या उसके तुरंत बाद दांतों में दर्द होता है, तो दर्द को कम करने के लिए एसिटामिनोफेन की तुलना में 400 मिलीग्राम इबुप्रोफेन लेना अधिक प्रभावी हो सकता है। कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *